भारत देश को सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था

दोस्तों एक समय था जब सभी देश भारत देश पर राज करना चाहते थे क्योंकि भारत अमीर देश में से एक देश था भारत देश शुरू में ही संपन्न रहा है और भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था लेकिन दोस्तों आज सवाल यह उठता है कि भारत को पुराने समय में सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था अगर भारत सोने की चिड़िया थी तो वर्तमान में उसे सोने की चिड़िया क्यों नहीं कहा जाता और ऐसा क्या हुआ भारत देश की गिनती अमीर देश में नहीं की जाती

.भारत देश को सोने की चिड़िया कहने के प्रमुख कारण है

1. प्राचीन भारत के लघु उद्योग।

दोस्तों प्राचीन भारत में कोई भी ऐसा व्यक्ति या घर नहीं था जिसके पास अपना छोटा सा कोई उद्योग न हो इसी वजह से भारत देश के लोगों को कोई भी वास्तु चाहिए होती थी सारी भारत देश में ही मिल जाया करती थी व बाहर से कुछ खरीदने की आवश्यकता नहीं होती थी इसी वजह से भारत का धन भारत में ही घूमता रहता था दोस्तों यह भी एक बड़ा कारण है जिसमें भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता था

2. कृषि प्रधान देश

जैसा कि दोस्तों हम जानते हैं कि भारत को कृषि प्रधान देश प्राचीन समय से ही कहते आ रहे हैं दोस्तों इस समय भी कृषि को एक अहम भूमिका माना गया है भारत में विभिन्न प्रकार के उत्पादन होते हैं जिससे अनेक फसलों का उत्पादन भारत देश में हो जाता है जिससे भारत देश को भारी मात्रा में धान की प्राप्ति होती थी

3 भारत का व्यापार

दोस्तों उसे समय भारत देश का व्यापार बहुत तेजी से चल रहा था बाहर के लोग यहां से सामान खरीदने के बदले सोना दिया करते थे इसी वजह से भारत के पास काफी मात्रा में सोना आया करता था

दोस्तों भारत के पास काफी धन संपत्ति थी 1700 ई के आसपास भारत की प्रति व्यक्ति कि आय 1305 अमेरिकी डॉलर थी जो कि उसे समय चीन अमेरिका जापान वे ब्रिटिश से भी अधिक थी भारत की यह धन संपत्ति विदेशी आक्रमणों का कारण भी बनी

भारत को सोने की चिड़िया किसने बनाया था

महाराजा विक्रमादित्य का शासन काल भारतीय इतिहास का स्वर्णिम कॉल भी कहा जाता है और इसी स्वर्णिम काल की वजह से उसे समय भारत सोने की चिड़िया कहलाता था राजा विक्रमादित्य की वजह से भारत में सोने की मात्रा अत्यधिक बढ़ चुकी थी जिस वजह से भारत को सोने की चिड़िया कहा गया व इसका सारा श्रेय महाराजा विक्रमादित्य को जाता है

क्या आप सऊदी अरब के इन अजीबो गरीब नियमों के बारे में जानते हो। 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment